Book!!//किताब!!

This world is like a river flowing downstream 

We are like the banks of the river, staying in one place, 
Life is like a parrot 
Dreams are flying in the sky without feathers, 
Settlements form a cement / concrete forest 
The bare mountains are seen without jungle, 
Where is the peepal chase, the sun’s rising sun 
Sounds a caravan of milestones, 
The wall is tangled with color like old age 
Home champs come and watch them steal, 
The shifts of your life are playing all over here 
Giving himself cheating himself hollow, 
Everybody is a beautiful book like a beautiful book We are also fluttering pages of any such book.

!!किताब!! 

यह दुनिया तो है नदी के उफनते हुए बहाव जैसी

हम नदी के किनारे जैसे हैं एक ही जगह ठहरे हुए,

जिन्दगी है परिन्दों की तरह चहकती बहकती हुई

सपने हैं बिना पंख के आसमान में उडान भरते हुए,

बस्तियां बनकर फैला है सीमेन्ट/कंक्रीट का जंगल

दिखाई देते हैं नंगे पहाड जंगल के बिना सुबकते हुए,

कहां है पीपल की छांव डूबते उगते सूरज के नजारे

मिलता है मील के पत्थरों का कारवां सिसकते हुए,

हो गये हैं दीवार टंगी हुई बदरंग तस्वीर जैसे बुढापे

घर के चिराग आते हैं नजर उनसे निगाह चुराते हुए,

अपनी जिंदगी की पारियां खेल ही रहे है सभी यहां

देते हैं खुद को खुद धोखा खोखले ठहाके लगाते हुए,

हरेक इंसान है यहां खूबसूरत जिल्द चढी किताब जैसा

हम भी हैं ऐसी ही किसी किताब के पन्ने फडफडाते हुए।।

“Pkvishvamitra”

Advertisements

9 thoughts on “Book!!//किताब!!”

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s