Wisdom!!/अक्ल!!

रात में रात/सुबह में सुबह/दोपहर में दोपहर हो ही जाया करती है,

भीड में भीड/मिटटी में मिटटी/हवा में हवा खो ही जाया करती है,

आग में आग/रेत में रेत/ओस में ओस घुडमुड हो ही जाया करती है,

पलकों से लरजती हुई खारे पानी की नदी आंखों को धो ही जाया करती है,

आशिक जागेगा और करेगा याद इस यकीन में माशूका सो ही जाया करती है,

कम अक्ली की बात है मौत की ख्वाहिश तय वक्त पर मौत हो ही जाया करती है,

जिंदगी की जंग है जिद का सवाल फतेहयाबी तो हासिल हो ही जाया करती है,

यकीन और सब्र रहते हैं हमेशा डांवाडोल ऐसे में गफलत हो ही जाया करती है,

दीदारे चांद की इंतजार नहीं है फिजूल वक्ते तयशुदा पर ईद हो ही जाया करती है।।

At night / morning in the morning / afternoon in the afternoon.

In the crowd, in the crowd / soil, the air is lost in soil / air, 

In the fire, the dew rises in the sand / dew in the fire / sand, 

The river of saline water, which is lazy to the eyelids, cleanses the eyes, 

It will wake up and remember the memory of this,

The less fortunate thing is that the desire for death is to die at a fixed time. 

The war of life is the question of Jidda Fatehyaabi is achieved, 

Trust and patience always go astray in such a situation, 

There is no waiting for Dindare Chand Fijul Vakate is going to get Eid on the right.

Pkvishvamitra”

Advertisements

One thought on “Wisdom!!/अक्ल!!”

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s