Alone!!/अकेला!!

मन में मन का मन

सोच में सोच की सोच

शरीर में शरीर का शरीर,

आंखो में आंखों की आंखें

आत्मा में आत्मा की आत्मा

कोई खुद में खोकर खुद अकेला है?,

बीज में बीज का बीज,

अन्त में अन्त का अन्त,

समय में समय का समय,

प्रारम्भ में प्रारम्भ का प्रारम्भ,

कोई भीड में खोकर भीड बनकर अकेला है?,

कल्प में कल्प का कल्प

आदि में आदि का आदि,

अतीत में अतीत का अतीत,

भविष्य में भविष्य का भविष्य,

कोई परमसत्ता का भाग होकर अकेला है?.

Mind in mind 
Thinking thinking 
Body body in body, 
Eyesight in Eyes 
Soul of soul in spirit 
Is someone lonely after losing himself? 
Seed seed in seed, 
Lastly, the end of the end, 
Time time in time, 
Initially the start of the beginning, 
Is someone lonely after being lost in the huddle? 
Aeon 
Etc. etc. etc. 
Past past in the past, 
Future of the future, 
Someone is alone by being part of Paramatta?

Pkvishvamitra”

Advertisements

10 thoughts on “Alone!!/अकेला!!”

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: